चार्टर अधिनियम 1833 क्या हैं? (Charter Adhiniyam 1833)- पढ़ें चार्टर अधिनियम 1833 के मुख्य प्रावधान।

Charter Adhiniyam 1833

ब्रिटेन में हुई औद्यौगिक क्रान्ति के फलस्वरूप चार्टर अधिनियम 1833 (Charter Adhiniyam 1833), ब्रिटिश संसद द्वारा पारित किया गया. इस अधीनियम के द्वारा कार्यकाल को 20 वर्षों के लिए बढ़ाया गया ताकि ईस्ट इंडिया कंपनी भारत में व्यापार कर सके और इंग्लैंड में उत्पादित होने वाले माल को वृहद स्तर पर भारत में बेचा जा … Read more